ISSN- 2278-4519
RNI : UPBIL/2012/44732
We promote high quality research in diverse fields. There shall be a special category for invited review and case studies containing a logical based idea.

भारतीय व्यापार गहनता का अध्ययन: नेपाल, श्रीलंका व मालदीप के संदर्भ में

कुमारी हितेश
एम0फिल (अध्ययनरत)
अर्थशास्त्र विभाग
वनस्थली विद्यापीठ राजस्थान

आधुनिक विश्व की एक महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि राष्ट्रों के मध्य तीव्रगति से आर्थिक विस्तार, वैज्ञानिक व तकनीकि तथा सामाजिक संघियों को विस्तार हो रहा है। इस परिदृश्य में हम सार्क राष्ट्रों के मध्य होने वाले आर्थिक विस्तर का विश्लेषण भारत, नेपाल, श्रीलंका व मालदीप के संदर्भ में करते हैं तो हमें कुछ रोचक तथ्य प्रदर्शित होते हैं। इनका विश्लेषण अध्ययन में व्यापार गहनता सूचकांक के द्वारा करने का प्रयास किया गया है। इस विश्लेषण में उक्त राष्ट्र के व्यापार सम्बन्धी समंक समीक्षा को वर्ष 2006 से 2016 तक की अवधि के मध्य लिया गया है। अध्ययन की प्रवृति से स्पष्ट होता है कि भारत-श्रीलंका निर्यात व आयात गहनता लगभग समान है, जबकि मालदीप के साथ यह अतिनिम्न स्तर की है इसके विपरीत नेपाल के साथ यह उच्च श्रेणी की है।  द्विपक्षीय या क्षेत्रीय व्यापार समझौते दो या दो से अधिक राष्ट्रों के मध्य होते हैं जोकि इन राष्ट्रों के मध्य तटकरों व अन्य प्रकार के प्रतिबन्धों को निम्न करने में सहायक  होते हैं। द्विपक्षीय या क्षेत्रीय व्यापार समझौतों को हम अधिमानी व्यापार समझौते इस दश में कह सकते है जबकि इस प्रकार के समझौते सम्बन्धित राष्ट्रों के मध्य होते हैं। भारत, नेपाल, श्रीलंका व मालदीप दक्षिणी एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संघ (सार्क) के सदस्य राष्ट्र है सार्क क्षेत्रीय आर्थिक हितों की पूर्ति का प्रभावी संगठन है। हमारा अध्ययनरत राष्ट्रों के मध्य व्यपारिक प्रवृति का विश्लेषण करना है। इस अध्ययन के विश्लेषण को हम व्यापार गहनता सूचकांक के द्वारा करने का प्रयास कर रहा है। भारत का नेपाल, श्रीलंका व मालदीप के प्रति गहनता सूचकांक विश्लेषण को निर्यात गहनता सूचकांक व आयात गहनता सूचकांक द्वारा वर्ष 2006 से 2016 में मध्य उपलब्ध आकड़ों द्वारा करने का प्रयास कर रहा है।साहित्य पुनरावलोकन इस शोध पत्र के अन्र्तगत विषय से सम्बन्धित शोधपत्रों की समीक्षा की गई है।रहमान (1) द्वारा भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश तथा श्रीलंका के मध्य शुल्क संघ के सदर्भ में होने वाले स्थायी लाभों का अध्ययन करते हुए विवरण प्रस्तुत किया गया है कि कुल क्षेत्रीय आय का 0.7 प्रतिशत कल्याणकारी लाभ अर्जित किया जाता है। इन राष्ट्रों के लिए लाभ-प्रासंबगिकता नगन्य है। अन्र्तराष्ट्रीय व्यापार में उदारीकरण के गत्यात्मक लाभ ही है जो उनकी आय में वृद्धि कर सकते हैं। रविन्थ्रि कुमार (2) ने घाटे की जुड़वा परिकल्पना का परीक्षण पाॅच सार्क राष्ट्रों के मध्य किया था। 1980-2012 समयावधि के लिए समंकों का विश्लेषण किया गया था तथा बजट घाटा व चालू खाता घाटा का अध्ययन इस लेख में किया गया था। झा, एस0सी0 (3) एशियाई क्षेत्र में अन्तर क्षेत्रीय व्यापार में हो रहे संरचनात्मक परिवर्तनों का विश्लेषण अस्सी के दशक के आकड़ों द्वारा किया तथा आयात-निर्यात औसत परिवर्तन ज्ञात करने का प्रयास किया गया था। सुल्तान, ए0, साजिद, एम0,सिद्धकी, एम0एन0 (4) के लेख में सार्क राष्ट्रों के श्रम प्रधान घटक का प्रयोग करेे सार्क राष्ट्रों के साथ व्यापार व भारत के चालू खाते घाटे पर प्रभाव का           अध्ययन किया गया है। महेश्वरराय, के0 (5) के शोघ पत्र से स्पष्ट होता है कि एशिया-अफ्रीका के अनेक राष्ट्र औपनिवेशक शक्ति के अधीन थे। इस अध्याय में भारत के द्विपक्षीय निर्यात व आयात के व्यापारिक सम्बन्धों का विश्लेषण 1995-2006 की समयावधि के अन्तर्गत किया गया है। विश्लेषण हेतु ओ0एल0एस0 का प्रयोग किया गया है। भारत का नेपाल, श्रीलंका व मालदीप के साथ निर्यात गहनता सूचकांक तथा आयात गहनता सूचकांक को ज्ञात करना है।  शोध विधि एवं समंकों का एकत्रण प्रस्तुत अध्ययन द्वितीयक समंक संकलन द्वारा किया गया है जो विशेषतः भारत व सार्क के चयनित राष्ट्रों के मध्य अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार पर आधारित है। सार्क के चयनित राश्ट्रों नेपाल, श्रीलंका व मालदीप के साथ भारत की व्यापार गहनता को निर्यात व आयात दोनों के लिए मापा गया है। वर्श 2006-2016 तक के समस्त व्यापारिक विस्तार का मूल्यांकन करने हेतु निर्यात गहनता सूचकांक व आयात गहनता सूचकांक (व्यापार गहनता सूचकांक) का प्रयोग किया गया है तथा आँकड़ों के प्रभावी प्रदर्शन हेतु विभिन्न रेखाचित्रों का प्रयोग किया गया है। समंकों का संकलन मिनिस्ट्री आॅफ काॅमर्स एंड इंडस्ट्री एवं सार्क ग्रुप आॅन स्टेटीस्टीक से लिया गया है। व्यापार गहनता सूचकांक सूत्र इस प्रकार से है -आयात गहनता सूचकांक -जहाँडप्श्र त्र भारत का सार्क के साथ आयात गहनता सूचकांकडपर त्र देश का आयात व्यापारिक भागीदार र देश से डपत्र   प देश का कुल आयातग्र त्र   र देश का कुल निर्यातग्ू त्र विश्व का कुल निर्यातग्पत्र प देश का कुल निर्यातनिर्यात गहनता सूचकांक -ग्प्श्र त्र  जहाँग्प्श्र त्र भारत का सार्क के साथ निर्यात गहनता सूचकांकग्पर त्र प देश का निर्यात व्यापारिक भागीदार श्र देश से ग्प त्र प देश का कुल निर्यातडर त्र र देश का कुल आयातडूत्र कुल विश्व का आयातडप त्र प देश का कुल आयात प्रस्तुत षोध पत्र में भारत व सार्क राष्ट्रो के मध्य व्यापार गहनता सूचकांक को ज्ञात किया गया है। भारत का व्यापार गहनता सूचकांक सार्क के प्रत्येक राष्ट्र के साथ अलग-अलग ज्ञात किया गया है तथा निर्यात व आयात गहनता सूचकांक दोनों को मापा गया है।तालिका 1भारत व मालदीप के मध्य व्यापार गहनता सूचकांकवर्ष निर्यात गहनता सूचकांक आयात गहनता सूचकांक2006.07 0ण्0021 0ण्00172007.08 0ण्0021 0ण्00272008.09 0ण्0ण्032 0ण्00292009.10 0ण्0029 0ण्00462010.11 0ण्0010 0ण्05302011.12 0ण्0033 0ण्01882012.13 0ण्0025 0ण्00402013.14 0ण्0015 0ण्00282014.15 0ण्0016 0ण्00302015.16 0ण्0019 0ण्0026भारत व मालदीव के मध्य व्यापार गहनता सूचकांक का रेखाचित्र द्वारा प्रदर्शन उपरोक्त तालिका में भारत व मालदीव के मध्य निर्यात व आयात गहनता सूचकांक ज्ञात किया है। सर्वप्रथम निर्यात सूचकांक का मूल्यांकन करने से यह ज्ञात होता है कि इसकी तीव्रता अत्यधिक निम्न रही है। वर्ष 2006-07 से 2015-16 तक की 10 वर्षों की समयावधि में यह सूचकांक औसत रूप से लगभग 0.000271 रहा है। इसी प्रकार से आयात गहनता सूचकांक सम्पूर्ण समयावधि में सूचकांक औसत रूप से लगभग 0.00961 रहा है। तालिका का विश्लेषण करने से यह स्पष्ट होता है कि भारत व मालदीव के मध्य व्यापार संभावनाएँ अत्यधिक निम्न है।तालिका 2भारत व नेपाल के मध्य व्यापार गहनता सूचकांकवर्ष निर्यात गहनता सूचकांक आयात गहनता सूचकांक

2006-07 0.0021 0.00172006-07 0.0021 0.00172007-08 0.0021 0.00272008-09 0.0.032 0.00292009-10 0.0029 0.00462010-11 0.0010 0.05302011-12 0.0033 0.01882012-13 0.0025 0.00402013-14 0.0015 0.00282014-15 0.0016 0.00302015-16 0.0019 0.0026

भारत व नेपाल के मध्य व्यापार गहनता सूचकांक का रेखाचित्र द्वारा प्रदर्शन तालिका 2 में भारत तथा नेपाल के मध्य निर्यात व आयात गहनता सूचकांक ज्ञात किया गया है जिससे यह स्पष्ट होता है कि 2006-07 में निर्यात गहनता सूचकांक   10.6074 है। तथा इसके बाद इसमें दो वर्ष तक वृद्धि हुई है, तत्पश्चात् 2009-10 से 2012-13 तक की समय अवधि में वृद्धि दर में हृास हुआ है। 2013-14 व 2014-15 में यह लगभग स्थिर रही है। 2015-16 में फिर से इस वृद्धि दर में हृास देखा गया है। इस तरह से स्पष्ट होता है कि भारत व नेपाल के मध्य निर्यात गहनता सूचकांक में अध्ययन की सम्पूर्ण समय-अवधि में उच्चावचन रहा है।  इसी प्रकार आयात गहनता सूचकांक से स्पष्ट है कि जो वृद्धि 2006-07 में 29.4202 थी। वहीं 2007-08 से लेकर 2011-12 तक की समय अवधि में इसमें तीव्र वृद्धि देखी गई है। 2012-13 में फिर से वृद्धि दर में कमी आई है। 2013-14 व 2014-15 में इसमें तीव्र गति से वृद्धि हुई है। 2015-16 में यह वृद्धि दर कम होकर 56.4642 हो गई। इस प्रकार तालिका का विश्लेषण करने से स्पष्ट होता है कि भारत का नेपाल को निर्यात सूचकांक कम है तथा आयात सूचकांक अधिक है।तालिका 3भारत व श्रीलंका के मध्य व्यापार गहनता सूचकांकवर्ष निर्यात गहनता सूचकांक आयात गहनता सूचकांक

2006-07 10.6047 29.42022006-07 10.6047 29.42022007-08 12.376 52.08782008-09 15.5254 51.49052009-10 12.2829 55.71422010-11 6.456 65.61112011-12 8.6738 70.29032012-13 7.4058 61.39392013-14 12.3614 69.09682014-15 12.5706 75.27592015-16 10.7653 56.4642

भारत व श्रीलंका के मध्य व्यापार गहनता सूचकांक का रेखाचित्र द्वारा प्रदर्शन  तालिका में भारत व श्रीलंका के मध्य व्यापार गहनता सूचकांक को ज्ञात किया गया है। सर्वप्रथम निर्यात सूचकांक के विश्लेषण से यह स्पष्ट होता है कि 2006-07 से 2008-09 तक यह लगभग स्थिर रहा है। वर्ष 2009-10 में यह सूचकांक 7.6705 रहा है। इसके पश्चात यह अगले दो वर्षों में लगभग स्थिर रहकर 2012-13 में कम होकर   7.1852 हो गया। 2013-14 में यह 6.475 था जो 2014-15 में बढ़कर 7.5711 हो गया तथा  2015-16 में इसमें हृास हुआ है।  तालिका में आयात सूचकांक से स्पष्ट होता है कि अध्ययन की सम्पूर्ण अवधि में इसमें उच्चावचन रहा है। भारत व श्रीलंका के मध्य आयात गहनता सूचकांक अध्ययन की 10 वर्षों की अवधि में यह औसत रूप से यह लगभग 5.8 रहा है। इस प्रकार निर्यात व आयात सूचकांक दोनों में ही उच्चावचन रहा है। इस प्रकार भारत व सार्क राष्ट्रों के मध्य व्यापार गहनता सूचकांक का संयुक्त रूप से मूल्यांकन करने से यह ज्ञात होता है कि भारत के व्यापार गहनता सूचकांक की विभिन्न सार्क राष्ट्रों के साथ क्या स्थिति है। भारत का नेपाल के साथ निर्यात गहनता सूचकांक आयात गहनता सूचकांक की तुलना में अत्यन्त निम्न है तथा भारत व मालदीव के मध्य निर्यात व आयात गहनता सूचकांक दोनों ही अत्यन्त निम्न है। भारत का श्रीलंका के साथ निर्यात व आयात गहनता सूचकांक लगभग दोनों ही बराबर है।

Latest News

  • Express Publication Program (EPP) in 4 days

    Timely publication plays a key role in professional life. For example timely publication...

  • Institutional Membership Program

    Individual authors are required to pay the publication fee of their published

  • Suits you and create something wonderful for your

    Start with OAK and build collection with stunning portfolio layouts.